Monday, December 27, 2010

जिंदगी के आईने से,
हटाके वक़्त की गर्त ।
देखा जो हमने सामने,
अपने बीते लम्हों का अक्स ।
चाहा नहीं था जिसे देखना,
आगया वो हमें नज़र।
दरकते हुए कई ख्वाबो का,
एक खामोश सा मंजर।

6 comments:

  1. बहुत खूब लिखा आपने बहुत दिनों के बाद.

    ReplyDelete
  2. दरकते हुए कई ख्वाबो का,
    एक खामोश सा मंजर।

    बहुत खूब ...दर्द भी है खूबसूरती भी

    ReplyDelete
  3. Happy new year, sheetal ji...

    ReplyDelete
  4. विद्रोही जी के ऊपर कुछ लोग एक फिल्‍म बना रहे हैं, मुझे यह लिंक मिला तो आपको भेज रहा हूं, मुझे तो ट्रेलर पसंद आया-
    http://www.blip.tv/file/4606567

    ReplyDelete
  5. आप सब को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएं.
    सादर
    ------
    गणतंत्र को नमन करें

    ReplyDelete